अब Google Map नहीं, ISRO द्वारा निर्मित स्वदेशी MAP MY INDIA APP

जब भी हम किसी नए स्थान पर जाते हैं या किसी स्थान की जानकारी चाहिए होती है तब हमारे पास Google Map के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं होता और इसके उपयोग करने के लिए मजबूर हो जाते हैं, बता दे की Google एक अमेरिकी कंपनी है और हमारे सभी डेटा को अपने सर्वर पर रखता है, जो हमारे और हमारे देश की सुरक्षा के लिए बिल्कुल ठीक नहीं है, पर अब Map My India इन सभी पड़ेशानियों का हल है।

मैप माय इंडिया जीपीएस क्या है और यह कैसे काम करती है?

इसके मद्देनजर, भारत ने मैप माई इंडिया नाविक लॉन्च किया है, जो एक स्वदेशी अनुप्रयोग है, जो इसरो और मैप माय इंडिया द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है और नागरिक उड्डयन आवश्यकताओं की बढ़ती मांगों को पूरा करने के लिए विकसित किया गया है। यह स्वतंत्र उपग्रह नेविगेशन प्रणालियों के आधार पर स्थिति, नेविगेशन और समय की उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपग्रह-आधारित नेविगेशन सेवाएं प्रदान करता है।

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि 1999 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान, भारत ने अमेरिका से अपने जीपीएस के लिए कहा था, लेकिन अमेरिका ने इसे देने से इंकार कर दिया, तब भारत ने अपनी स्वदेशी जीपीएस प्रणाली बनाने का फैसला किया जिसके बाद हमारा भारतीय अंतरिक्ष और अनुसंधान संगठन (ISRO) के वर्षों के प्रयासों के बाद, इस उपकरण को MAP MY INDIA नाम दिया गया है।

ISRO के CEO और कार्यकारी निदेशक रोहन वर्मा ने कहा है, Map My India GPS, ISRO द्वारा विकसित एक नेविगेशन सेवा जो पूरी तरह से स्वदेशी है और दुनिया के किसी भी स्थान पर आसानी से नज़र रखने में पूरी तरह सक्षम है, जिसके कारण उपग्रह तस्वीर और अवलोकन डेटा डिजिटल रूप से प्रदान करेगा।

मैप माय इंडिया आपको जीपीएस एडेड जियो ऑगमेंटेड नेविगेशन (GAGAN) और भारतीय क्षेत्रीय नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS या NavIC) उपग्रह के साथ सेवाएं प्रदान करेगा जो भारत का स्वदेशी नेविगेशन सिस्टम है।

gagan and irnss
Left IRNSS & GAGAN in right

GAGAN, यह एक सैटेलाइट आधारित ऑग्मेंटेशन सिस्टम (SBAS) है जिसे एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) के साथ संयुक्त रूप से लागू किया गया है। GAGAN का मुख्य उद्देश्य नागरिक उड्डयन अनुप्रयोगों के लिए आवश्यक सटीकता और अखंडता के साथ सैटेलाइट आधारित नेविगेशन सेवाएं प्रदान करना और भारतीय वायु क्षेत्र पर बेहतर वायु यातायात प्रबंधन प्रदान करना है। यह प्रणाली अन्य अंतर्राष्ट्रीय एसबीएएस प्रणालियों के साथ परस्पर क्रियाशील होगी और क्षेत्रीय सीमाओं के पार निर्बाध नेविगेशन प्रदान करेगी। GAGAN सिग्नल-इन-स्पेस/Signal-In-space (SIS) GSAT-8 और GSAT-10 के माध्यम से उपलब्ध है। जबकि,

IRNSS या NavIC, महत्वपूर्ण राष्ट्रीय अनुप्रयोगों के लिए एक स्वतंत्र भारतीय उपग्रह आधारित स्थिति प्रणाली है, जिसका मुख्य उद्देश्य भारत और उसके पड़ोस पर विश्वसनीय स्थिति, नेविगेशन और समय सेवाएं प्रदान करना है, ताकि उपयोगकर्ता को काफी अच्छी सटीकता प्रदान की जा सके।

आईआरएनएसएस (IRNSS) मूल रूप से दो प्रकार की सेवाएं प्रदान करेगा :

  1. मानक स्थिति सेवा (SPS)
  2. प्रतिबंधित सेवा (RS)

Map My India, Google से कई मामलों में आगे है और उन्नत भी, ये आपको वास्तविक समय में स्थान की सटीक जानकारी देगा और देश की सुरक्षा का विशेष ख्याल रखेगा।

Map My India अब तक के सभी Web, Apps और Gadgets के लिए उपलब्ध है जो आसानी से Maps अथवा Location APIs और SDKs की मदत से जुड़ कर सुविधा प्रदान करती है।

आत्मनिर्भर भारत की ओर हमारा एक और कदम:

अब हमें इन सेवाओं के लिए विदेशी संस्थानों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा और हम अपने वैज्ञानिकों द्वारा निर्मित स्वदेशी उपकरणों का उपयोग कर सकेंगे। मैप माय इंडिया के बाद हमें Google Map और Google Earth जैसे किसी भी एप्लिकेशन की आवश्यकता है। नहीं।

Leave a Reply